Networking

राउटर (Routers) के कार्य तथा उपयोग

1. Introduction to routers (राउटर का परिचय)

2. Protocols used with routers (राउटर में प्रोटोकॉल का प्रयोग )
3. Working of routers (राउटर का कार्य)

Introduction to routers |राउटर का परिचय

दोस्तों जैसा की हमने आप सभी को  बताया की  routers network layer devices होते है। Network layer पर data को packets के नाम से संबोधित किया  जाता है। Routers packets को एक network से दूसरे network में forward करने का कार्य  करते है। और Routers भी address table maintain करते है।

        

Routers किसी भी packet को destination network में भेजता है destination host में नहीं भेजता हैं । उदाहरण के लिए कोई host किसी दूसरे host को data भेज रहा है जो की दूसरे network में है। Router का इस situation में सिर्फ इतना role है की वो data को दूसरे network में भेजता है। इसके बाद data को host तक पहुचाने की जिम्मेदारी switch की होती है।

जैसे की मैने आपको पहले बताया routers routing tables maintain करते है। एक simple routing टेबल में एक packet की final destination network का IP address होता है, next network का IP address होता है, और routing metrics होती है।

Final destination network वो network होता है जिसमे destination host होता है जिसके लिए data भेजा गया है। Next network वो network होता है तो जो source network और destination network के बीच होता है। ऐसे networks को next hop भी कहते है। और routing metrics final network तक shortest path find करने के लिए यूज़ की जाती है।

एक routing table इस प्रकार हो सकती है –

Protocols

Routers data को किसी network में forward करने के लिए 2 तरह के protocols यूज़ करते है।

Routed protocols  –

इस तरह के protocols में हर device को manually एक IP address दिया जाता है। तब ही devices एक दूसरे की location को जान पाते है। इस तरह के protocol का उदाहरण IP (Internet Protocol) है। इस तरह के protocols के माध्यम से data भेजा जाता है।

Routing protocols –

इस तरह के protocols routers के बीच में यूज़ होते है। इनकी मदद से routers अपनी routing tables को update करते है। जब किसी router को किसी नए network की जानकारी मिलती है तो वो इसे अपनी routing table में update कर लेता है और ये information दूसरे routers के पास automatically routing protocols की मदद से update हो जाती है। Routing protocols के उदाहरण में मुख्य नाम EIGRP, RIP और OSPF है।

Working of routers

यह भी जरुर पढ़े ……………..

नेटवर्क स्विच क्या होते है तथा कैसे कार्य करते हैं 

हब (Hub )क्या होते हैं 

नेटवर्किंग की बेसिक जानकारी 

कंप्यूटर हार्डवेयर हिंदी में सीखे 

किसी भी तरह की टेक्निकल विडिओ देखने के लिए हमारे यूटूब चैनल पर यहाँ क्लिक करके जा सकते हैं 

About the author

Admin

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का chiplevels.com में स्वागत है। यहाँ पर आपको Computer / Laptop Hardware के chiplevel स्तर तक के नोट्स मिलेंगे। जो लोग Computer / Laptop Hardware का course नहीं कर पाते है, वे हमारे ब्लॉग से Basic जानकारी प्राप्त कर सकते है।
अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें |

Add Comment

Click here to post a comment