नेटवर्किंग से सम्बंधित बेसिक जानकरी

दोस्तों हम इस पोस्ट में नेटवर्किंग से सम्बंधित बेसिक जानकरी प्राप्त करेंगे और आगे हम इन सब के बारे में विस्तार से जानेगे

नेटवर्किंग से सम्बंधित बेसिक जानकरी-:  आपको नेटवर्किंग के बारे में पढे में आसानी हो, इसके लिए हमने इस पोस्ट को अलग अलग भागों में पेश किया है, नीचे पेज नंबर दिये गए है, आप सभी पेजों को जरूर पढे।

1. Introduction to Ethernet in Hindi

2. Cables of Ethernet in Hindi

3. network topology of Ethernet in Hindi

Introduction to Ethernet

Ethernet को 1970 में xerox ने develop किया था। उस समय इसकी स्पीड़ 2 से 3 MB के

बीच थी। Ethernet का standard नाम IEEE 802.3 है।

Ethernet एक LAN technology है। जिससे आप computers को आपस में connect कर

सकते है और एक Local Area Network बना सकते है। इस technology में आप

information के flow को control करने के लिए protocols यूज़ करते है।

Ethernet technology में आप cables की सहायता से computers को connect करते है।

शुरू में Ethernet technology में coaxial cables ही यूज़ की जाती थी। लेकिन अब

twisted pair और fiber cables भी यूज़ की जाती है।

Ethernet technology के साथ आप LAN कई प्रकार से बना सकते है जिसे topology

कहते है। जैसे की Bus, star, ring और mesh topology।

Ethernet technology में cables का बहुत बड़ा role है। आइये Ethernet technology

में यूज़ होने वाली अलग अलग cables के बारे में जानने का प्रयास करते है।

Ethernet cables

Ethernet technology में 3 तरह की cables यूज़ की जाती है

Coaxial cable

इस तरह की केबल में एक सिंगल wire होता है जो insulator, metal की shield और

plastic के खोल से घिरा रहता है। Insulator signal को control करता है। Metal की

shield wire को electromagnetic interference से बचाती है ताकि signal बीच में ही

destroy ना हो। और plastic का खोल wire को बाहरी अवरोधों से बचाता है जैसे की पानी

और आग। Coaxial cabling ज्यादातर televisions के लिए यूज़ की जाती है।

2 तरह की coaxial cable यूज़ की जाती है –

1. Thick net – इस तरह की coaxial cable थोड़ी मोटी होती है और इसमें shielding भी

ज्यादा होती है। Thick net coaxial cables लंबी दुरी के लिए यूज़ की जाती रही है। लेकिन ये

केबल reliable नहीं होती है। इस तरह की  Coaxial cables को connect करने के लिए

Vampire tap यूज़ होता है।

2. Thin net – इस तरह की coaxial cable normal size की होती है। ये cables thick

net cables के comparison में ज्यादा reliable होती है। इस तरह की coaxial cables को

connect करने के लिए BNC connector यूज़ किये जाते है।

दोस्तों हम इस पोस्ट में नेटवर्किंग से सम्बंधित बेसिक जानकरी प्राप्त करेंगे और आगे हम इन सब के बारे में विस्तार से जानेगे

आपको नेटवर्किंग के बारे में पढे में आसानी हो, इसके लिए हमने इस पोस्ट को अलग अलग

भागों में पेश किया है, नीचे पेज नंबर दिये गए है, आप सभी पेजों को जरूर पढे।

[button color=”blue” size=”medium”

link=”http://www.chiplevels.com/networking-ethernet-ki-basic-jankari-

hindi-me/2/” icon=”fa-arrow-right” target=”true”]पेज नंबर 2 पढ़ने के लिए क्लिक

करे। [/button]

One Comment on “नेटवर्किंग से सम्बंधित बेसिक जानकरी”

  1. hi sir mere pass d-link Dir-505 WIFI booster hai mein usko kese configure karu ki agar mein apna main network change(agar tikona se local net pe transfer karta hunto ) krta hun to wo apne aap second network extend karne lage

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *