Computer Networking In Hindi : नेटवर्क क्या है

Networking
Networking
Networking

chiplevels | chiplevels hardware repairing |

Computer Networking In Hindi : नेटवर्क क्या है

Note :- नेटवर्किंग सिखने के जरूरी हैं इन Computer Networking Terms को समझना

नेटवर्क क्या है In Hindi- कंप्यूटर नेटवर्क एक डिजिटल टेलीकम्यूनिकेशन्स नेटवर्क है जो नोड्स

को रिसोर्सेस को शेयर करने की अनुमति देता है।

Networking

कंप्यूटर नेटवर्क में, नेटवर्क कंप्यूटिंग डिवाइस डेटा लिंक का उपयोग करते हुए एक दूसरे के साथ

डेटा का एक्सचेंज करते हैं। नोड्स के बीच कनेक्शन के लिए केबल मीडिया या वायरलेस मीडिया

का उपयोग किया जाता हैं।

कंप्यूटर नेटवर्क, हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के कॉम्बिनेशन से बनाया जाता है।

Networking

कंप्यूटर नेटवर्क क्या है in Hindi:

कम्प्यूटर नेटवर्किंग, कम्यूनिकेशन के उद्देश्य के लिए कंप्यूटर और अन्यत डिवाइसेस का एक ग्रुप

होता है, जो वायर्ड (लैन), वायरलेस या इंटरनेट से कनेक्टे होते हैं।

नेटवर्क डिवाइेसेस में switches और routers सहित Printer, Scanner, Server जैसे कई

तरह के डिवाइसेस हो सकते हैं। नेटवर्क में इनफॉर्मेशन को एक्सेचेंज करने के लिए, प्रोटोकॉल और

एल्गोरिदम का इस्तेमाल होता है।

U want more chiplevels info then click – http://www.chiplevels.com/

Networking

नेटवर्क के हरएक एन्ड्पॉइन्ट (जिन्हेक कभी-कभी होस्ट कहा जाता है) को एक युनिक

आइडेंटिफायर जो अक्सर एक IP एड्रेस या एक Media Access Control (MAC) एड्रेस होता हैं।

ट्रांसमिशन के सोर्स या डेस्टिनेशन को इंडिकेट करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।

एंडपॉइंट में सर्वर, पर्सनल कंप्यूटर, फोन्स और कई प्रकार के नेटवर्क हार्डवेयर शामिल हो सकते हैं।

वायर्ड और वायरलेस टेक्नोलॉजी:

नेटवर्क वायर्ड और वायरलेस टेक्नोलॉजी के मिश्रण का उपयोग कर सकते हैं। नेटवर्क डिवाइसेस

वायर्ड या वायरलेस ट्रांसमिशन मेडियम के माध्यम से कम्युनिकशन्स करते हैं।

वायर्ड नेटवर्क में, optical fiber, coaxial cable or copper wires शामिल हो सकती हैं।

वायरलेस नेटवर्क में सभी नोडस् के बिच डेटा कम्युनिकशन्स वायरलेस माध्यहम से होता हैं। यह

माध्यडम ब्रॉडकास्टन रेडियो, सेल्यूलर रेडियो, माइक्रोवेव और सैटेलाइट हो सकता हैं।

नेटवर्क प्राइवेट या पब्लीयक हो सकते हैं। प्राइवेट नेटवर्क में एक्सेिस के लिए यूजर को परमिशन

की आवश्यकता होती है। आमतौर पर, यह किसी नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर द्वारा मैन्युअल रूप से

दिया जाता है या किसी पासवर्ड द्वारा या अन्य क्रेडेंशियल के द्वारा यूजर को एक्सेसस दिया

जाता है। पब्‍लीक नेटवर्क जैसे इंटरनेट के लिए एक्सेएस रिस्ट्रिक्ट नहीं होता।

कंप्यूटर नेटवर्क एक कम्युनिकशन्स चैनल है जिसके माध्यम से हम अपने डेटा को शेयर कर

सकते हैं। इसलिए इसे डेटा नेटवर्क भी कहा जाता है।

U Want Govt jobs then click – http://jobportalinfo.com

डेटा कम्युनिकशन्स नेटवर्क के लिए क्राइटेरिया:

प्रमुख क्राइटेरिया जो डेटा कम्युनिकशन्स नेटवर्क को पूरा करना चाहिए: Performance,

Reliability, Recovery और Security

i) Performance:

परफॉरमेंस को एरर फ्री डेटा ट्रांसफरिंग करने के रेट से डिफाइन किया गया है। यह रिस्पांस टाइम

द्वारा मापा जाता है।

Response Time

नेटवर्क में एक एंड से रिक्वे स्टन भेजने और दूसरे एंड से उसका रिस्पॉं स आने के बिच के समय

को Response Time कहां जाता हैं।

Response Time को प्रभावित करने वाले फैक्टैर हैं:

यूजर्स की संख्या: एक नेटवर्क पर अधिक यूजर्स होंगे तो नेटवर्क स्लोा हो सकता हैं।

ट्रांसमिशन स्पीड: डेटा ट्रांसमिशन स्पीड बिट्स प्रति सेकंड (bps) में मापा जाता हैं।

मीडिया टाइप: नोड्स को कनेक्ट करने के लिए उपयोग किए जाने वाले फिजिकल कनेक्शन का

टाइप।

हार्डवेयर टाइप: स्लो  कंप्यूटर या पेंटियम जैसे फास्टा

सॉफ्टवेयर प्रोग्राम: नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम (NOS) कितनी अच्छी हैं।

ii) Consistency:

Consistency रिस्पॉंपस टाइम और डेटा की एक्यूरेसी का पूर्वानुमान होता हैं।

यूजर हमेशा रिस्पॉंसस टाइम कम ही चाहते हैं, क्योरकि प्रिंट कमांड देने में और प्रिंट आने में यदि

30 सेकंड से अधिक का समय लग रहा हैं तो नेटवर्क में कुछ प्रॉब्लाम हो सकता हैं।

डेटा की एक्यूरेसी निर्धारित करती है कि नेटवर्क कितना रिलायबल है!

iii) Reliability:

नेटवर्क की विश्वसनीयता यह है कि कितनी बार एक नेटवर्क उपयोग करने योग्य है। MTBF –

Mean Time Between Failures (असफलता के बीच का समय) एक औसत समय का एक

अंश है जिसमें एक कंपोनेंट अपेक्षाकृत असफलताओं के बीच काम करता है। आम तौर पर इसकी

जानकारी मैन्युफैक्चरर द्वारा दी जाती है।

एक नेटवर्क का फेल होना हार्डवेयर, मेडियम या नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम के फेल होने से होता हैं।

iv) Recovery:

रिकवरी नेटवर्क के फेल के बाद ऑपरेशन के निर्धारित लेवल पर वापस जाने की नेटवर्क की क्षमता है।

v) Security:

सेक्युuरिटी हार्डवेयर, सॉफ़्टवेयर और डेटा के अनधिकृत उपयोग से सुरक्षा है। कम्प्यूटरों को

एक्से‍स के लिए पासवर्ड प्रोटेक्श्न दिया जाता हैं। इसके साथ ही एंटिवायरस और फायरवॉल का भी

इस्ते माल किया जाता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *